भारत में साइबर क्राइम की शिकायत कैसे दर्ज कराएं

Main Image
  • Like
  • Comment
  • Share

भारत में इंटरनेट अब केवल मनोरंजन का एक साधन नहीं है, जिस पर आप केवल फिल्में देखें या सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर करें। बढ़ती हुई टेक्नोलॉजी के साथ, लोगों के जीवन में इंटरनेट एक सबसे ज़्यादा इस्तेमाल की जाने वाली सर्विस है, जिसके साथ हम बच्चों के स्कूल की फीस से लेकर बिजली, गैस के बिल भी भरते हैं और अपने बैंक अकाउंट को नंबर से लिंक करके, लगभग सभी ट्रांसैक्शन करने के लिए भी इंटरनेट ही चाहिए। इसके अलावा भी ये सर्विस कई कामों में इस्तेमाल होती है। इन्हीं सब कामों के शुरुआत के साथ साइबर क्राइम का भी जन्म हुआ है।

इंटरनेट के बढ़ते हुए इस्तेमाल के साथ, ऑनलाइन फ्रॉड, लोगों को कॉल करके किसी बहाने से UPI के OTP इत्यादि पूछकर धोखाधड़ी करने जैसे अपराध भी बढ़ते जा रहे हैं। लेकिन ऐसे अपराधों के लिए अब भारत में एक फोरम मौजूद है, जहां आप ऑनलाइन हुए किसी भी अपराध की शिकायत दर्ज कर सकते हैं। इन शिकायतों को साइबर क्राइम (Cyber crime) के तहत दर्ज किया जाता है। अगर आपके साथ भी ऑनलाइन ऐसी कोई घटना हुई है, तो आप इस आर्टिकल में जान सकते हैं कि आपको कहाँ और कैसे शिकायत करनी है। और अगर आप सुरक्षित हैं तो भी, आपको ये जान लेना चाहिए कि किसी के भी साथ साइबर क्राइम होने पर आपको क्या करना चाहिए ?

ये पढ़ें: ग्राहक कैसे कंस्यूमर कोर्ट में अपनी शिकायत करें दर्ज

साइबर क्राइम क्या है ?

साइबर क्राइम में वो जुर्म शामिल हैं, जिनमें एक कंप्यूटर/लैपटॉप, नेटवर्क डिवाइस या इंटरनेट नेटवर्क द्वारा ये जुर्म किये जाते हैं। इस अपराध में किसी की भी ऑनलाइन सिक्योरिटी या फाइनेंसियल हेल्थ (आपका धन) को नुक्सान पहुंचाया जा सकता है। साइबर क्राइम की दुनिया में इन्हें वाइट कॉलर क्राइम कहा जाता है। इस तरह के जुर्मों के लिए लगभग हर राज्य में एक साइबर सेल मौजूद है, जहां पीड़ित लोग अपनी शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

साइबर क्राइम कितनी तरह के होते हैं ?

मुख्यत: साइबर क्राइम 6 तरह के होते हैं –

  • साइबर स्टाकिंग – इस क्राइम के अंतर्गत वो जुर्म आते हैं, जहां कोई भी इंटरनेट का इस्तेमाल करके किसी एक व्यक्ति या लोगों के ग्रुप को बार-बार परेशान किया जाता है। जैसे किसी पर भद्दे कमेंट करना, धमकी भरे ई- मेल भेजना, किसी पर गलत आरोप लगाना।
  • हैकिंग – हैकिंग के बारे में आप सब जानते ही होंगे। हैकिंग वो जुर्म है, जिसमें डिजिटल डिवाइसों का उपयोग करके, गैर कानूनी तरीके या चोरी से किसी के बैंक अकाउंट या कंप्यूटर का एक्सेस लिया जाता है, या यूँ कहें कि चुराया जाता है।
  • साइबर बुली – साइबर बुल्ली (Cyber Bullying) में वो जुर्म आते हैं, जिसमें किसी व्यक्ति की पोस्ट पर अभद्र भाषा में या नकारात्मक कमेंट किये जाते हैं। किसी के बारे में उसकी ऐसी निजी बातें या अन्य जानकारी लोगों तक शेयर करना, जो उसे शर्मिंदा करे।
  • ऑनलाइन चोरी – ऐसे जुर्म जहां इंटरनेट का इस्तेमाल करके, किसी व्यक्ति के बैंक अकाउंट की जानकारी हैक करके या धोखे से हासिल करके, उसके पैसे चुराना या ऑनलाइन उसके क्रेडिट/डेबिट कार्ड का उपयोग करना।
  • साइबर आतंकवाद – ये साइबर और आतंकवाद का मिला-जुला रूप है। इसके अंतर्गत इंटरनेट का इस्तेमाल करके शहरों पर हमले करने की धमकियाँ, या सरकार की महत्वपूर्ण जानकारी पर हमला या उसे कम्प्यूटर द्वारा चोरी करने जैसे अपराध शामिल हैं।
  • चाइल्ड सोलिसिटिंग या गलत व्यवहार – ये वो जुर्म है, जहां इंटरनेट पर बच्चों से पोर्न वीडियो बनाने के लिए कहा जाता है या उनके साथ ऑनलाइन गलत व्यवहार किया जाता है।

इसके अलावा फिशिंग स्कैम (किसी अच्छी कंपनी के नाम पर ई-मेल द्वारा आपसे आपके बैंक आकउंट, आधार कार्ड, ई-मेल, पासवर्ड इत्यादि जैसी जानकारी निकलवाना), सॉफ्टवेयर हैकिंग, जैसे अन्य क्राइम भी साइबर क्राइम में ही आते हैं।

हमारे साथ काम करने वाले के साथ भी हुआ एक साइबर क्राइम

इससे पहले हम आपको ये बताएं कि साइबर क्राइम की रिपोर्ट कैसे करनी है, आपको अपने एक सहकर्मी (colleague) की कहानी बताते हैं।

मेरे साथ काम करने वाली एक सहकर्मी को एक अंजान व्यक्ति का कॉल आया और उसने बोलै कि वो Paytm से बोल रहा है। उसने कहा कि वो एक मैसेज भेजेगा, जिस पर क्लिक करने के बाद Paytm से की जाने वाली हर ट्रांसेक्शन पर उन्हें 5% का कैशबैक मिलेगा। उन्हें सुनकर ये ऑफर अच्छा लगा और उन्होंने अपने मैसेज ऐप में जाकर वो मैसेज खोला, लेकिन उसमें मौजूद लिंक पर क्लिक नहीं किया। लेकिन सिर्फ उस मैसेज को खोलने से ही इनके Paytm वॉलेट से 15,000 रूपए कट गए और किसी अनजान व्यक्ति को चले गए। जिस व्यक्ति के मोबाइल नंबर पर पैसे गए, उन्हें फ़ोन करने पर जब हमारे दोस्त ने पूछा, तो उन्होंने कहा कि उन्हें कोई पैसे नहीं आये हैं।

इसके बाद तुरंत इन्होंने अपने किसी कज़िन को फ़ोन किया, जो Paytm Movies डिपार्टमेंट में काम करते थे। और उस कज़िन ने कुछ ही मिनटों में इनके नंबर और जिस नंबर पर पैसे गए, दोनों को ब्लॉक कर दिया। इसके बाद इनके कज़िन ने इन्हें साइबर सेल जाकर शिकायत करने को कहा। जब ये अपने नज़दीकी साइबर सेल पहुंची, तो वहाँ लोगों ने फॉर्म भरने में इनकी मदद की और शिकायत दर्ज की। एक कंप्लेंट आईडी भी इन्हें दी गयी। इसके बाद कंप्लेंट आईडी और शिकायत की कॉपी के साथ कुछ स्क्रीनशॉट के प्रूफ लगाकर इन्होने Paytm में भेजे, जिसके बाद ये साबित हुआ कि वो पैसे इन्हीं के थे और चोरी हो गए थे।

10-12 का समय लगा, लेकिन इनके सारे पैसे वापस मिल गए और जिस अकाउंट में पैसे गए थे, उन्हें चोरी के लिए Paytm पर सील कर दिया गया। अच्छा ये हुआ, कि इनका कोई जानकार Paytm में मौजूद था और इन्होंने घटना के तुरंत बाद उन्हें फ़ोन कर लिया। लेकिन ऐसे में आप साइबर क्राइम में रिपोर्ट भी कर सकते हैं और Paytm के कस्टमर केयर नंबर पर जाकर भी कुछ मदद मांग सकते हैं।

हालांकि इन्हें यहां पर किसी ने गाइड किया और साइबर सेल भेजा, बहुत लोग ऐसे हैं, जिन्हें नहीं पता कि ऑनलाइन चोरी होने के बाद करना क्या है, तो आप इस आर्टिकल द्वारा उनकी भी मदद कर सकते हैं।

ये पढ़ें: इस तरह दो Android स्मार्टफोनों के बीच Nearby Share से करें ऐप्स, फोटो, अन्य फाइलों को ट्रांसफर

आइये अब जानते हैं कि साइबर क्राइम की शिकायत कहाँ दर्ज करें

  • सबसे पहले cybercrime.gov.in खोलें और ‘फाइल अ कंप्लेंट’ (file a complaint) के विकल्प को चुनें।
  • सभी शर्तों (terms and conditions) को मानते हुए ‘Accept’ पर क्लिक करें।
  • इसके बाद ‘Report Other Cybercrime’ पर क्लिक करें।
  • अब ‘Citizen Login’ यानि नागरिक द्वारा लॉग-इन पर क्लिक करें और मांगी गयी डिटेल को भरें। (जैसे नाम, राज्य, यूज़र का नाम, मोबाइल नंबर इत्यादि)
  • मोबाइल नंबर डालने के बाद, ‘Get OTP’ की बटन पर क्लिक करें और मोबाइल पर आये OTP को भरकर, नीचे दिख रहे captcha को पूरा करें और ‘submit’ का बटन दबाएं।
  • इसके बाद आपके सामने नया पेज खुलेगा, जिसमें एक फॉर्म होगा। इस फॉर्म में शिकायत दर्ज करने के लिए चार भागों (Incident Details, Suspect Details, Complaint details, और preview) में मांगी गयी जानकारी भरें और submit कर दें।
  • इसके लिए आपको सुबूत के तौर पर अपने सोशल मीडिया के अकाउंट डिटेल और वेबसाइट URL जैसी जानकारी देनी पड़ सकती है।
  • इसके बाद ‘Save and Next’ पर क्लिक करें।
  • सस्पेक्ट यानि जिसे आप अपराधी मानते हैं, उसकी डिटेल मांगी जाएगी। (अगर आपके पास है तो)
  • इसके बाद अपनी ई-मेल आईडी, फोटो, अन्य जानकारी देते हुए अगले स्टेप पर बढ़ें।
  • अब Preview की बटन दबाकर देखें, कि आपने जो भी जानकारी भरी है, वो पूरी तरह सही होनी चाहिए। अगर ये सही है, तो ‘कन्फर्म और सबमिट’ की बटन दबाएं। और बस आपकी शिकायत दर्ज हो गयी।
  • आप अपनी फाइल की हुई शिकायत की कॉपी PDF फॉर्मेट में डाउनलोड भी कर सकते हैं।

इसके बाद आपको आपके नंबर पर की हुई कंप्लेंट की आईडी मिल जाएगी।

साइबर क्राइम की शिकायत दर्ज करने में पूछे जाने वाले प्रश्न

1. अगर किसी के घर के पास साइबर सेल नहीं है, तो वो क्या करे ?

अगर ऐसा है, तो आप नज़दीकी पुलिस थाने में भी रिपोर्ट कर सकते हैं।

2. क्या साइबर क्राइम की कंप्लेंट या शिकायत करने के लिए कोई अलग फॉर्मेट है ?

नहीं, ऐसा कोई अलग फॉर्मेट नहीं है। आप एक साधारण लेटर या एप्लीकेशन में आपके साथ हुए साइबर क्राइम की डिटेल भरकर, नज़दीकी पुलिस थाने या साइबर सेल में शिकायत कर सकते हैं।

3. अगर साइबर सेल आपकी शिकायत लिखने या स्वीकार करने से मना कर दे तो ?

ऐसा होने पर आप एक लेटर सीधा नज़दीकी जुडिशल या न्यायिक मजिस्ट्रेट के पास लेकर जाएँ कि आपकी शिकायत साइबर सेल ने क्यों नहीं लिखी है।

4. साइबर सेल में शिकायत करने के लिए आपको क्या कागज़ात चाहिए ?

ये कागज़ात आपकी कंप्लेंट के साथ सुबूत के तौर पर जमा किये जाते हैं। इनमें ऑनलाइन फ्रॉड से सम्बंधित स्क्रीनशॉट, मैसेज या कोई रिकॉर्डिंग भी आप पेश कर सकते हैं। जैसे PayTm wallet से पैसे चोरी होने पर, टट्रांसेक्शन के स्क्रीनशॉट और ट्रांसेक्शन आईडी व पैसे डेबिट होने पर आये मैसेज के स्क्रीनशॉट को प्रूफ के तौर पर पेश किया जा सकता है।

Pooja ChaudharyPooja Chaudhary
Pooja has been covering technology and gadgets for more than 5 years. Most of her work has been centred around smartphones and smartphone apps, but she occasionally likes to dabble with content on people and relationships. She is also a bit of a TV junkie and is often trying to make time to catch up with her favourite shows and classic movies.

Related Articles

ImageApple के डायनामिक आइलैंड जैसे सेटअप के साथ 7 मार्च को लॉन्च होगा Realme C55

Realme C55 को अभी हाल ही में ऑनलाइन वेबसाइट पर देखा गया था, जिसके बाद से फोन की चर्चा तेज़ हो गयी थी। अब खबर मिली है, कि यह नवीनतम स्मार्टफोन 7 मार्च को लॉन्च किया जायेगा। दरअसल, Realme की इंडोनेशियाई शाखा ने आधिकारिक वेबसाइट पर एक प्रोमो पेज के माध्यम से फोन के लॉन्च …

Imageभारतीय ई-कॉमर्स बाज़ार में Amazon, Flipkart का राज खत्म करने के लिए सरकार ने लॉन्च की है ONDC, जानें इसके बारे में सब कुछ

भारत में ऑनलाइन शॉपिंग या ई-कॉमर्स के क्षेत्र में Amazon और Flipkart का राज रहा है। लेकिन अब भारत सरकार ने तेजी से बढ़ते ई-कॉमर्स के बाज़ार में इन कंपनियों को टक्कर देने के लिए एक स्वदेशी और सरकारी Open Network for Digital Commerce (ONDC) लॉन्च किया। लेकिन अब ताज़ा खबर ये कि Flipkart, Reliance …

ImageSamsung स्ट्रीमिंग सर्विस Smart TV Plus का वेब वर्शन लॉन्च हुआ – कोई भी कर सकेगा मुफ्त में इस्तेमाल

Samsung ने अपनी मुफ्त स्ट्रीमिंग सर्विस Smart TV Plus के वेब वर्शन को लॉन्च किया है। ग्राहक इस सेवा का आनंद बिना कोई पैसा खर्च किये उठा सकते हैं। हालांकि मुफ्त सेवा होने के साथ इसमें विज्ञापन भी दिखाए जायेंगे। क्रोमेकास्ट डिवाइसों के लिए कास्ट करने का विकल्प भी इस बार इसमें दिया गया है। …

Imageक्या है Blue Aadhaar कार्ड, कैसे करें अप्लाई ?

भारत में आधार कार्ड की महत्ता बताने की ज़रुरत नहीं है। भारत के सभी नागरिकों के लिए आधार कार्ड न केवल एक पहचान पत्र है, बल्कि ये पूर्ण रूप से आपकी पहचान है, जिसके द्वारा आपका कोई काम जैसे बैंकों में अकाउंट खुलवाना, कोई नयी संपत्ति या गाड़ी खरीदना, दफ्तर में प्रूफ, बच्चों का स्कूल …

Imageक्या है e-SIM? Android और iPhones में कैसे एक्टिवेट करें e-SIM?

भारत में धीरे धीरे e-SIM का उपयोग बढ़ रहा है और धीरे धीरे कंपनियां भी अपने फ़ोन में एक फिजिकल सिम और एक ई-सिम का चलन बढ़ा रही हैं। eSIM को फिज़िकल सिम की जगह पर इस्तेमाल किया जाता है और इसके काफी फायदे भी हैं। सबसे पहले तो ये फ़ोन में फिज़िकल सिम के …

Discuss

1 Comment
Rajan Das
Rajan Das
@rajan_kekoporo
6 months ago

Hello bro please help me my Facebook account is hack please recover my ID

Reply