डीपफेक AI स्कैम कॉल: दोस्त-रिश्तेदार की बनावटी आवाज़ में आपको लूटने का नया चक्रव्यूह

Main Image
  • Like
  • Comment
  • Share

समय बदल रहा है तो ठगी करने वालों के तरीके भी बदलते जा रहे हैं। पहले जहां ऑनलाइन या साइबर फ्रॉड किए जाते थे, लेकिन अब स्कैमर डीपफेक AI स्कैम कॉल करके लोगों की जेब हल्की कर रहे हैं। स्कैमर आपके किसी परिचित की आवाज़ की नकल तैयार करता है। फिर डीपफेक AI स्कैम कॉल के जरिए मुश्किल में फंसे होने की बात कहकर रुपये ऐंठ लेता है। लोगों की आवाज़ की नकल बनाकर रुपये ऐंठने का यह सबसे नया तरीका है। धीरे-धीरे यह समस्या विकराल रूप लेती जा रही है। अब तक डीपफेक AI स्कैम कॉल के चक्रव्यूह में कई लोग फंस चुके हैं। अगर आप इसका शिकार नहीं होना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें।

ये पढ़ें: Nothing Phone की तरह दिखने वाला Infinix GT 10 Pro जल्दी ही हो सकता है लॉन्च

इस तरह करता है काम

टेक्नोलॉजी की आसान उपलब्धता इस चुनौती को लगातार बढ़ा रही है’। ‘डीपफेक AI स्कैम कॉल’ के लिए ठगी करने वाले जनरेटिव AI का इस्तेमाल करते हैं। ऑनलाइन कई सारे ऐसे सस्ते AI सॉफ्टवेयर हैं, जिनकी मदद से किसी की भी आवाज़ का नमूना तैयार किया जा सकता है। अगर ठगी करने वाले के पास आपकी ऑडियो रिकॉर्डिंग है तो वो आवाज़ का हूबहू वैसा ही नमूना तैयार करने के लिए डीपफेक एल्गोरिदम का उपयोग कर सकता है। आपके कुछ ही वाक्यों के साथ वो आवाज़ की नकल तैयार कर देता है।

सोशल मीडिया ने काम कर दिया आसान

आवाज़ की नकल बनाने के लिए ठगी करने वाले के पास निशाना बनाए जाने वाले व्यक्ति का डाटा होना चाहिए, ताकि उसकी जिंदगी में क्या चल रहा है, उसके बारे में वर्तमान और पिछली जानकारियां मिल सकें। इसके लिए ठग सोशल मीडिया का सहारा लेते हैं। दरअसल, कई लोग अपनी जिंदगी की पल-पल की अपडेट सोशल मीडिया पर देते रहते हैं। यही ठगी करने वालों के लिए फायदेमंद साबित होती है। वे वहां से जानकारियां एकत्रित करते हैं। जानकारियां जितनी अधिक मिलेंगी, उतनी बेहतर आवाज़ की नकल बनाई जा सकेगी, ताकि सामने वाले का भरोसा जीता जा सके।

वॉयस जनरेटिंग टूल का करते इस्तेमाल

आवाज़ की नकल बनाने से पहले AI वॉयस-जनरेटिंग टूल ये पता लगाते हैं कि उसमें क्या फर्क है। यानी आवाज से सामने वाले की उम्र, जेंडर और शब्दों का उच्चारण किस तरह का है, इसे जांचा जाता है। फिर उसी से मिलती-जुलती आवाज़ और क्या कहना है उसके पैटर्न का पता लगाने के लिए AI बहुत बड़ा डेटाबेस खोजता है। उस व्यक्ति के कहने के तरीके के हिसाब से आवाज़ को फिर से तैयार किया जाता है। इस टूल को बस छोटे-छोटे नमूनों की जरूरत होती है और वो अपने वाक्य तैयार कर लेता है। इनको ठग टीवी ऐड, पॉडकास्ट, Facebook या Instagram से भी निकाल सकते हैं।

डीपफेक एल्गोरिदम का उपयोग है आसान

किसी के भी ऑडियो डाटा तक पहुंच रखने वाला कोई भी इंसान आप से जो चाहे कहलवाने के लिए डीपफेक एल्गोरिदम का उपयोग कर सकता है। यह उतना ही आसान है, जितना कि कंप्यूटर पर कुछ टाइप करना और फिर उसे अपनी आवाज़ में पढ़ना है। एक ठग किसी भरोसेमंद व्यक्ति, बच्चे, माता-पिता या दोस्त के रूप में कॉल कर सकता है और सामने वाले को पैसे भेजने के लिए मना सकता है क्योंकि वह खुद को मुसीबत में फंसा हुआ बताता है।

कोई भी हो सकता है शिकार

जेनरेटिव एआई ने ठगों के लिए आवाज़ों की नकल बनाना आसान कर दिया है, जिससे किसी को भी ठगा जा सकता है। मान लीजिए अगर कॉल करने वाला कोई आपके दोस्त या परिवारीजन की तरह लगे और खुद को खतरे में बताए तो ऐसे में जरूरी है कि उसकी सही से जांच परख कर लें। अगर पैसे की मांग या किसी चीज की जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो पहले सवाल-जवाब करके यह सुनिश्चित कर लें कि कहीं वो डिपफेक कॉल तो नहीं।

ये देखें : Samsung Galaxy Watch 6 के रेंडर लीक

AI धीरे-धीरे हमारी जिंदगी का हिस्सा बनता जा रहा है। इसने टेक्नोलॉजी के नये मायने गढ़ दिए हैं। हालांकि, इसके फायदे हैं तो कई बड़े नुकसान भी। जैसे-जैसे यह तकनीक लोगों के पास पहुंच रही है, वैसे-वैसे गलत कामों में भी इसका इस्तेमाल किया जाना शुरू हो चुका है। इसकी सबसे आम रणनीति परिचित के मुश्किल में फंसे होना या फिरौती मांगना है। अगर कोई ऐसा करता है तो तुरंत फोन काट दें और उस परिचित के नंबर पर कॉल करके या उसके पास जाकर सही जानकारी लें।

अधिक जानकारी के लिए आप Smartprix को TwitterFacebookInstagram, और Google News पर फॉलो कर सकते हैं। मोबाइल फोन, टेक, गाइड या अन्य खबरों के लिए आप Smartprix पर भी विज़िट कर सकते हैं।

Related Articles

Image25,000 के बजट में Infinix लेकर आया नया गेमिंग फ़ोन – Infinix GT 20 Pro

Infinix GT 20 Pro आज भारत में लॉन्च हुआ है। ये फ़ोन कंपनी का दूसरा गेमिंग फ़ोन है और Infinix GT 10 Pro का सक्सेसर है। फ़ोन में Dimensity 8200 Ultimate चिप और एक डेडिकेटेड गेमिंग डिस्प्ले चिप है। साथ ही AMOLED 144Hz डिस्प्ले, 108MP का कैमरा और बाईपास चार्जिंग जैसे फ़ीचर भी हैं। भारत में …

Imageपैसे चुराने के लिए स्कैमर्स ने फिर लगाई नयी तरकीब; जानें इस फेक वॉइस कॉल से कैसे बचें

भारत में धड़ल्ले से ऑनलाइन स्कैम होते जा रहे हैं। कभी मैसेज में किसी लिंक द्वारा, कभी ऑनलाइन जॉब का झाँसा देकर, तो कभी पेमेंट ऐप्स पर आपको हमने पैसे भेजे हैं कहकर और उनमें जाली मैसेज भेजकर। कुछ पाबंदियाँ लग जाने के बाद अब ऑनलाइन स्कैम करने वालों ने फिर एक नया तरीका खोजा …

Imageऑनलाइन स्कैम को रोकने के लिए WhatsApp ने मांगी आम जनता की मदद

WhatsApp इस समय सबसे ज़्यादा इस्तेमाल की जाने वाली मैसेजिंग ऐप है, जिसके उपयोगकर्ता दुनियाभर में हैं। भारत में भी मैसेज, फोटो, वीडियो भेजने और वीडियो कॉलिंग के लिए इसी ऐप का ज़्यादातर इस्तेमाल होता है। लेकिन पिछले कुछ समय से इस ऐप पर WhatsApp इंटरनेशनल कॉल स्कैम ज़ोर पकड़ रहा है, जिसकी शिकायत लगातार …

ImageAI की सहायता से Instagram Stories में बैकग्राउंड कैसे बदलें?

यदि आपको भी इंस्टाग्राम पर स्टोरीज डालने का शौक है, और डेली नयी स्टोरीज अपलोड करते हैं, तो ये लेख ख़ास आपके लिए ही है, क्यूंकि इस लेख में हमनें बताया है कि AI की सहायता से Instagram Stories में बैकग्राउंड कैसे बदलें? कुछ सालों से तकनिकी क्षेत्र में AI को ज्यादा महत्त्व दिया जा …

ImageGoogle Wallet में Movie Tickets कैसे Add करें?

हाल ही में google अपना नया App Google Wallet लॉन्च किया है जो Google Pay के साथ ही मिल के काम करेगा। ये एक प्रकार का डिजिटल लॉकर है, इसमें आप Digilocker की तरह ही अपने सभी डाक्यूमेंट्स रख सकते हैं, और कभी भी कहीं भी एक्सेस कर सकते हैं। इस लेख में हम आपको …

Discuss

2 Comments
Be the first to leave a comment.