स्मार्टफोन को इस्तेमाल करते हुए अक्सर देखा गया है की समय के साथ-साथ फोन की बैटरी लाइफ कम होती जाती है। बैटरी लाइफ कम से मतलब है की चार्जिंग स्पीड में कमी, बैटरी बैकअप में कमी आदि। आज के समय में जिस तरह से फ़ास्ट चार्जिंग और बड़ी बैटरी कैपेसिटी को लेकर होड़ लगी हुई है इसके बाद बैटरी के लिए आपको थोडा और चिंतित होना चाहिए।

जिस तारह से टेक्नोलॉजी बैटरी को बेहतर बनाती जा रही है उतनी ही तेज़ी है उसको खतरा भी बढ़ता जा रहा है खासकर तब जब अपडेट करने पर फोन के स्लो होने या चार्जिंग के समय फटने जैसी न्यूज़ भी सुनने को मिलती है। तो अगर आप चाहते है की आपके डिवाइस की बैटरी लम्बे समय तक इस्तेमाल लायक बनी रहे तो नीचे बताई गयी टिप्स को जरुर अपनाएँ।

यह भी पढ़िए: कैसे करे Realme 5 Pro में Google Camera (Gcam) का इस्तेमाल

बैटरी लाइफ से जुडी टाइप एंड ट्रिप्स

1. सॉफ्टवेयर अपडेट

फोन मैन्युफैक्चरर Apple, Samsung, Xiaomi जैसे ब्रांड अपने फ़ोनों के लिए समय-समय पर अपडेट जरी करते रहते है। कुछ यूजर बड़ी अपडेट की वजह से फोन को अपडेट नहीं करते है लेकिन हम कहेंगे की यह अपडेट आपके फोन के साथ-साथ बैटरी के लिए भी काफी जरूरी होते है।

डिवाइस अपडेट करने से आपको लेटेस्ट सॉफ्टवेयर को मिलता ही है साथ में आपको बैटरी एफ्फिसिएंट अपडेट भी मिलते है जो आपकी बैटरी की लाइफ बढ़ने में सहायक होते है। इसके लिए आप फोन की सेटिंग्स में जानकर सॉफ्टवेयर अपडेट या सिस्टम अपडेट के जरिये अपडेट चेक कर सकते है।

2. स्क्रीन ब्राइटनेस कम रखना या ऑटोमेटिक ब्राइटनेस

स्क्रीन ब्राइटनेस ज्यादा होना बैटरी की खपत तो बढाता ही है साथ में आपकी आँखों के लिए भी काफी हानिकारिक होता है तो क्यों न फोन को ही निर्धारित करने दे की आस-पास लाइटिंग के हिसाब से स्क्रीन कितनी ब्राइट होनी चाहिए। इसके लिए आप सेटिंग्स के तहत आटोमेटिक ब्राइटनेस या अडाप्टिव ब्राइटनेस के ऑप्शन को ऑन कर सकते है।

अगर आप बैटरी को लेकर और भी जायदा सचेत है तो आप आटोमेटिक ब्राइटनेस को भी ना इस्तेमाल करके खुद ही मैन्युअल ब्राइटनेस लेवल को 50% की आसपास सेट करके अपनी बैटरी और आँखों दोनों को लाभ होगा।

3. नोटीफिकेशन और वाइब्रेशन को बंद रखना

आज के समय में यूजर अपनी डिवाइस को इतना ज्यादा इस्तेमाल करते है की फोन में आने वाले हर नोटिफिकेशन को देखते है चाहे वो जरूरी हो या कोई ऐड हो। इसी के चलते कुछ यूजर नोटिफिकेशन आने पर डिस्प्ले ऑन होने वाले ऑप्शन को भी इस्तेमाल करते है जिसकी वजह से बैटरी की खपत बढ़ जाती है।

तो अगर आप टेक्नोलॉजी का ज्यादा इस्तेमाल करते है तो स्मार्ट-बैंड आपके लिए अच्छा ऑप्शन होने ताकि आप बैंड पर देखकर सिर्फ काम के ही नोटिफिकेशन के लिए डिवाइस को ओपन करे साथ ही आपको फोन साइलेंट रखने में भी मदद होती है तो बिना साउंड और वाइब्रेशन के बैटरी की खपत में कमी होती है।

4. चार्जिंग के तरीके

धीरे-धीरे फोन को बड़ी बैटरी देने के साथ अब कंपनियाँ फ़ास्ट चार्जिंग को भी एक अनिवार्य फीचर की तरह फ्लैगशिप फ़ोनों में ही नहीं बजट सेगमेंट में भी देने लगी है। लेकिन यह बैटरी की लाइफ के लिए एक एक अच्छी चीज नहीं है।

  • फ़ास्ट चार्जिंग में बैटरी को जल्दी चार्ज करने के लिए ज्यादा वोल्टेज दे जाती है तो अगर आपके लिए काफी जरुरी है तभी फ़ास्ट चार्जिंग का इस्तेमाल करे वरना सामान्य स्पीड से बैटरी की लाइफ भी बढती है साथ ही बैकअप भी अच्छा मिलता है।
  • इसके अलावा अगर आप अपनी बैटरी को बेहतर और लम्बा इस्तेमाल करना चाहते हो तो फोन को कभी भी 100 चार्ज ना करते हुए इसको हमेशा 90% के आस-पास चार्ज करे।
  • बैटरी को कभी भी एक दम जीरो तक इस्तेमाल ना करे कम से कम 20% या 15% बैटरी बचने पर फोन को चार्ज करना काफी अच्छा कदम साबित होता है क्योकि इस से बैटरी थोडा जल्दी भी चार्ज होती है साथ ही बैकअप भी एक जैसा ही बना रहता है।

5. डार्क थीम और अडाप्टिव बैटरी ऑप्शन का इस्तेमाल

अगर आप बैटरी को लम्बे समय तक इस्तेमाल करना चाहते है तो आज के लेटेस्ट ट्रेंडी फीचर डार्क मोड को जरुर इस्तेमाल करे क्योकि इस से बैटरी की काफी बचत तो होती है साथ ही यह आपकी बैटरी के लम्बे इस्तेमाल में भी सहायक है।

Adaptive Battery

एंड्राइड पाई आधारित फ़ोनों में बैटरी पर काफी ध्यान देते हुए अडाप्टिव बैटरी का भी विकल्प दिया गया है जिसको ऑन करने से आपकी डिवाइस बैकग्राउंड बैटरी खपत पर नज़र रखे हुए उसको ऑप्टिमाइज़ भी करती है।

6. बैटरी सेवर का इस्तेमाल

जी हाँ हम बैटरी सेवर को इस्तेमाल करने का सुझाव दे रहे है लेकिन किसी थर्ड पार्टी एप्लीकेशन नहीं बल्कि आपके फोन के साथ मिलने वाले बैटरी सेवर का। फोन में दिए गये बैटरी सेवर ऑप्शन को इस्तेमाल करने पर यह डिवाइस की बैटरी खपत को कम से कम करते हुए आपको लम्बा बैकअप देता है तथा बैटरी की लाइफ में भी बढ़ोतरी करता है।

7. मल्टीटास्किंग

ज्यादा रैम दिए जाने का मतलब है बेहतर मल्टी-टास्किंग। आप यहाँ पर बेहतर गेमिंग कर सकते है तथा एक से दूसरी एप्प मेभी आसानी से स्विच आकर सकते है। तो मल्टी-टास्किंग एक अच्छा विकल्प है लेकिन यह बैटरी के लिए थोडा दिक्कत भी देता है।

बार बार बैकग्राउंड में एप्लीकेशन के इन्टरनेट या बैटरी यूज़ करने पर आपकी बैटरी की खपत और डाटा दोनों ही खपत होती है वो भी आपकी जानकरी के बिना। तो जब भी आप किसी एप्लीकेशन पर अपना काम पूरा कर चुके है तो उसको बंद करने में काफी फायदा है ताकि आपके फोन की रैम पर भी दबाव कम पड़े तथा बैटरी भी लम्बे समय तक इस्तेमाल की जा सके।

8. बैटरी का तापमान

आज के टाइम में हाई-एंड गेमिंग के बाद फोन के तापमान में बढ़ोतरी साफ़ तौर पर देखी जाती है। तो हम यह कहेंगे की आपके फोन की बैटरी की लाइफ को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीके है उसको रूम-टेम्परेचर पर इस्तेमाल करना। हम जानते है की आप मौसम को कण्ट्रोल नहीं कर सकते लेकिन आप चार्जिंग के समय फोन की हीटिंग पर नज़र रखने के साथ कुछ समय चीजो जैसे ज्यादा गर्म या ठन्डे माहौल में फोन का इस्तेमाल ना करने जैसी चीजो का ध्यान तो रख सकते है।

9. स्विच ऑफ चार्जिंग

अभी ऊपर बताया गया है की कभी भी फोन को जीरो तक इस्तेमाल ना करे लेकिन महीने में एक बार आपको अपने फोन को स्विच ऑफ़ करके भी फुल चार्ज करना होता है इस से आपकी बैटरी को पूरा टाइम मिलता है आराम से चार्ज होने का क्योकि चार्जिंग के समय फोन का इस्तेमाल करने से भी बैटरी में कमी आती है।

तो अगर ज्यादा जरूरी ना हो तो फोन को हमेशा बिना इस्तेमाल किये चार्ज करे तथा महीने में एक बार स्विच ऑफ करके फुल चार्ज भी जरुर करे।

10. बेकार एप्लीकेशन अन-इंस्टाल करना

यह सबसे बेसिक और सिर्फ बैटरी के लिए ही नहीं बल्कि आपके फोन रैम और स्टोरेज सभी के लिए एक अच्छा कदम साबित होता है। अगर आप फोन में इंस्टाल की गयी कुछ एप्लीकेशन को कभी इस्तेमाल ही नहीं करते है तो सिर्फ पड़े रहने से बेहतर है की आप उस एप्लीकेशन को फोन दे डिलीट कर दे क्योकि बैकग्राउंड में यह एप्लीकेशन बैटरी और स्टोरेज दोनों का ही इस्तेमाल कर सकती है जो आपकी डिवाइस के लिए एक अच्छी खबर नहीं है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here