दूरसंचार विभाग ने उपभोक्ताओं को अपना आधार कार्ड अपने मोबाइल नंबर से जोड़ना काफी आसान बना दिया है, इसके साथ ही पुन: सत्यापन प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए, दूरसंचार विभाग ने नए तरीके भी जोड़े हैं जो उपभोक्ताओं को कहीं जाने की बजाय अपने घर बैठे ही नंबर को आधार से लिंक करने की सुविधा देते हैं। ऐसा करने के लिए, सरकार ने तीन नए तरीकों की शुरुआत की है जो निम्नानुसार हैं:

इसके अलावा पढ़ें: किसी भी फ़ोन पर Stock Android Notification Panel और Quick Settings इस तरह प्राप्त करें

  • OTP Verification

यह प्रक्रिया उस मोबाइल नंबर का उपयोग करेगी जो आधार कार्ड पंजीकरण के दौरान पहले से आधार कार्ड से जुड़ा था। तब इन मोबाइल नंबरों पर भेजे गए OTP ऑनलाइन वेबसाइटों या ऐप्स के माध्यम से सत्यापित किए जाएंगे

  • Apps के उपयोग द्वारा

हालांकि हमने अतीत में आपके बायोमेट्रिक डाटा को फिंगरप्रिंट और आईरिस स्कैनर द्वारा कैप्चर करके UIDAI से जोड़ा गया था, लेकिन अब यह सम्भव है कि ऐप्स के माध्यम से प्रमाणीकरण उस मोबाइल नंबर पर आधारित हो सकता है जो पहले से आपके आधार कार्ड से पंजीकृत है।

  • IVRS (इंटरएक्टिव वॉयस रिस्पांस) द्वारा

आप अपने फोन से अपने आधार कार्ड को जोड़ने के लिए टोल फ्री नंबर पर कॉल करने में सक्षम होंगे।

दूरसंचार विभाग ने सभी ऑपरेटरों को विकलांग, गंभीर बीमार और वरिष्ठ नागरिकों के लिए अलग और आसान ढंग से डोरस्टेप वेरिफिकेशन की व्यवस्था करने का आदेश दिया है। उपभोक्ता द्वारा ऑनलाइन अनुरोध किये जाने के बाद इस सेवा की व्यवस्था की जाएगी।

इसलिए, मूल रूप से, इन नए तरीकों का उपयोग करके आप अपने आधार कार्ड के साथ पंजीकृत नम्बरों का पुन: सत्यापन कर पाएंगे।

भारत में आधार कार्ड और मोबाइल नंबर जोड़ने के लिए अंतिम तिथि

मोबाइल नंबरों के पुन: सत्यापन के लिए अंतिम तिथि अब 6 फरवरी, 2018 से बढ़ा कर31 मार्च 2018 कर दी गई है।

इसके अलावा पढ़ें: 20 मेगापिक्सल के ड्यूल कैमरा और बड़ी बैटरी के साथ आएगा OnePlus 5T, नए लीक में हुआ खुलासा

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here