UPI पेमेंट्स के नियमों में बड़ा बदलाव, आम जनता की जेब पर पड़ेगा असर

Main Image
  • Like
  • Comment
  • Share

बाज़ार में सब्ज़ी खरीदने से लेकर खाना ऑनलाइन आर्डर करना, हॉस्पिटल में कंसल्टेशन फीस या किसी को कोई बड़ी रकम भेजने तक मैं तो लगभग हर चीज़ के लिए UPI का ही इस्तेमाल करती हूँ, और शायद आप में से भी बहुतों का पेमेंट करने का मुख्य तरीका UPI ऐप्स ही होंगी। 2016 में NPCI द्वारा लाया गया ये नया तरीका कोविड 19 के दौर से प्रचलित होकर अब काफी बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि 2024 जनवरी से UPI पेमेंट्स में कई बदलाव होने वाले हैं, जिनका असर हम सभी पर पड़ेगा। आइये जानते हैं कि सर्कार UPI पेमेंट्स में इस साल से कौन से बदलाव लागू कर सकती है।

ये पढ़ें: गलती से हो गयी UPI पेमेंट – वापस पाने के लिए अपनाएं ये उपाय 

UPI ट्रांसैक्शन की लिमिट बढ़ाई जाएगी 

पिछले महीने ही रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के गवर्नर ने UPI पेमेंट्स की लिमिट को बढ़ाने की घोषणा की थी। इस साल यानि 1 जनवरी 2024 से अस्पताल और शिक्षा संस्थाओं के लिए UPI पेमेंट्स की लिमिट को 1 लाख से बढ़ाके 5 लाख रुपए कर दिया गया है। अब आप अस्पताल के बिल या किसी कॉलेज की फीस भी आसानी से UPI पेमेंट्स द्वारा भर सकेंगे। 

ये UPI आईडी किये जायेंगे डिएक्टिवेट 

NPCI ने सभी प्रचलित UPI ऐप्स जैसे Google Pay, Paytm, PhonePe, इत्यादि और बैंकों को ये निर्देश दिया है कि जो UPI आईडी 31 दिसंबर, 2023 से एक साल पहले से इस्तेमाल नहीं की जा रही है, उन सभी आईडी को 2024 में बंद कर दिया जाए। ये कदम गलत आईडी पर भुगतान होने जैसी गलतियों को रोकेगा। ऐसे में जिनके मोबाइल नंबर बदल गए हैं और उन्होंने पुराने नंबर से जुड़ी पुरानी UPI आईडी को बंद किये बिना नए नंबर से नयी आईडी चालू कर ली है, उन सभी आईडी को बंद किया जायेगा, जिससे गलत ट्रांसक्शन होने से बच सके। अगर आपने लम्बे समय से अपनी आईडी को इस्तेमाल नहीं किया है और आप चाहते हैं कि आपकी यूपीआई आईडी डिएक्टिवेट ना की जाए, तो तुरंत उसे इस्तेमाल करें। 

ये पढ़ें: अब वॉइस कमांड के साथ कर सकेंगे UPI पेमेंट

1 लाख तक की यूपीआई पेमेंट पर अभी कोई ऑथेंटिकेशन नहीं होगा 

RBI की घोषणा के अनुसार 1 लाख रुपए तक के UPI ट्रांसफर या भुगतान पर कोई अतिरिक्त ऑथेंटिकेशन की आवश्यकता अब नहीं होगी। इसके बाद आप 1 लाख तक की रकम को बिना AFA म्यूच्यूअल फण्ड, क्रेडिट कार्ड पेमेंट, इत्यादि जगहों पर UPI द्वारा भेज सकते हैं। इससे पहले बिना AFA (additional factor authentication) केवल  15,000 तक की राशि ट्रांसफर की जा सकती थी।

बढ़ेगी UPI Lite वॉलेट की लिमिट 

इस साल केवल UPI ही नहीं, बल्कि UPI Lite वॉलेट यानि जिससे आप ऑफलाइन या बिना पिन कोड डाले भी पेमेंट कर सकते हैं, उसकी लिमिट को भी प्रतिदिन 200 से बढ़ाकर 500 रुपए कर दिया जायेगा। इससे आप अधिकतम 2000 रुपए तक की रकम ट्रांसफर कर सकेंगे। ये कदम उन जगहों पर जहां अच्छी इंटरनेट कनेक्टिविटी नहीं है, वहाँ डिजिटल पेमेंट्स को प्रमोट करने के लिए उठाया गया है।

2000 से ऊपर के UPI ट्रांसफर पर मर्चेंट्स को देनी होगी इंटरचेंज फीस

NPCI ने काफी समय पहले ये घोषणा की थी कि UPI पेमेंट्स ट्रांसफर करने पर मर्चेंट्स को 1.1% की इंटरचेंज फीस देनी होगी। जो UPI ट्रांसैक्शन UPI वॉलेट जैसे Paytm या PhonePe वॉलेट का इस्तेमाल करते हुए 2,000 रुपए से ऊपर के ट्रांसफर या पेमेंट्स करेगा, उनको ये फीस अदा करनी होगी।

ये पढ़ें: अब केवल भारत में नहीं, बल्कि विदेश में भी कर सकेंगे UPI पेमेंट

इन पेमेंट्स की ट्रांसैक्शन पर लगेगी 4 घंटे की समय सीमा

ऑनलाइन पेमेंट्स में बढ़ते फ्रॉड के केस देखने के बाद, भारतीय रिज़र्व बैंक ने ये प्रोपोज़ल सामने रखा है कि जो यूज़र पहली बार किसी नए नंबर (जिस पर पहले पेमेंट नहीं की) पर 2,000 रुपए से अधिक का भुगतान कर रहे हैं, उनके लिए 4 घंटे की समय सीमा होनी चाहिए। इससे अगर आपको सही नहीं लगता, या आप अपने पैसे वापस लेना चाहते हैं, तो आसानी से आप किसी फ्रॉड से बच सकें। यह 4 घंटे की सीमा जितनी बार यूज़र किसी नए नंबर पर 2,000 रुपए से अधिक रुपए भेजता है, हर बार लगनी चाहिए।

लॉन्च होगी UPI ATM सर्विस

RBI ने योजना बनायी है कि पूरे देश में UPI ATM सर्विस शुरू की जाएगी। इसके लिए रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने जापानी कंपनी Hitachi के साथ साझेदारी की है, जिससे ऐसे ATM तैयार किये जायेंगे, जहां आपको QR कोड स्कैन करके पैसे निकालने की सुविधा मिलेगी। Hitachi Payment Services ने देश का पहला UPI-ATM लॉन्च भी कर दिया है, इसका नाम White Label ATM (WLA) है।

अधिक जानकारी के लिए आप Smartprix को TwitterFacebookInstagram, और Google News पर फॉलो कर सकते हैं। मोबाइल फोन, टेक, गाइड या अन्य खबरों के लिए आप Smartprix पर भी विज़िट कर सकते हैं।

Pooja ChaudharyPooja Chaudhary
Pooja has been covering technology and gadgets for more than 5 years. Most of her work has been centred around smartphones and smartphone apps, but she occasionally likes to dabble with content on people and relationships. She is also a bit of a TV junkie and is often trying to make time to catch up with her favourite shows and classic movies.

Related Articles

Imageइस वजह से दिया जाता है Samsung Galaxy डिवाइस में Maintenance Mode फीचर, ऐसे करें इसका इस्तेमाल

Samsung ने अपने स्मार्टफोन्स में One UI 5 के साथ, Maintenance Mode फीचर की सुविधा भी दी है, जो आपके फोन के डेटा को सुरक्षित रखता है। यदि आपका फोन खराब हो गया है और आपको उसे ठीक कराने के लिए सर्विस सेंटर पर छोड़ना पड़ेगा। ऐसी स्तिथि में आपके फोन का डेटा असुरक्षा के …

Imageपास में नहीं है डेबिट कार्ड, तो आधार कार्ड नंबर से सेट करें UPI PIN; ये हैं आसान स्टेप्स

कोरोना काल से शुरू हुआ UPI पेमेंट का चलन अब धीरे धीरे ज़रुरत बन गया है। पूरे देश में सब्ज़ी मंडी से लेकर मॉल तक आप अपने फ़ोन से कहीं भी कैसे भी कैशलेस पेमेंट कर सकते हैं। हालांकि UPI पेमेंट करने के लिए आपको Paytm, Google Pay, PhonePe जैसी ऐप्स द्वारा UPI PIN सेट …

ImageUPI और UPI Lite में आये फ़ीचर, आपके बहुत काम आने वाले हैं

रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने UPI (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफ़ेस) और UPI Lite के लिए नए फ़ीचर की घोषणा की है। इसमें AI, Lite वर्ज़न में लेन-देन की सीमा को बढ़ना और NFC सपोर्ट शामिल है। इन नए फीचरों को सावधानी से इस्तेमाल करें तो, ये सभी उपयोगकर्ताओं के काफी काम आने वाले फ़ीचर हैं। आइये इनके …

Imageआखिर क्यों बंद हो रही हैं Paytm की सभी सर्विसें ? आम जनता पर क्या होगा इसका असर ?

RBI यानि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने Paytm Payments Bank के खिलाफ कुछ कड़े निर्णय सुनाये हैं, जिसका असर Paytm के सभी यूज़र्स पर होगा। आरबीआई ने बुधवार को बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट के तहत Paytm के खिलाफ एक्शन लिया और Paytm की सभी सर्विसों पर बैन का आदेश दिया है। इसको लेकर आरबीई के अपने …

Imageटोल की लाइनों में लम्बे इंतज़ार से बचने के लिए इस तरह करवाएं FASTag KYC

NHAI हाल ही में “One Vehicle, One FASTag” को पेश किया था, जिससे लोग एक वाहन या गाड़ी पर कई FASTag या कई गाड़ियों पर एक ही FASTag का उपयोग न कर सकें। इसका उद्देश्य है इलेक्ट्रॉनिक टोल सिस्टमों पर ट्रैफिक का फ्लो बना रहे और लोगों को यहां किसी समस्या के चलते इंतज़ार न …

Discuss

Be the first to leave a comment.