पेटीएम के सीईओ विजय शेखर शर्मा ने व्हाट्सएप पेमेंट के खिलाफ अपना असंतोष जाहिर किया है उनके अनुसार व्हाट्सप्प पेमेंट UPI-नीतियों का पालन नहीं कर रहा है। रिपोर्टस के मुताबिक, श्री शर्मा अब भारत के राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) में व्हाट्सएप पेमेंट के द्वारा अनुचित लाभ उठाने के खिलाफ याचिका दायर करेंगे। NPCI ने ही UPI प्रणाली विकसित की है।(Read In English)

व्हाट्सएप पेमेंट सर्विस, जो अभी भी परीक्षण चरण में है, को लॉग-इन सेशन और आधार-आधारित भुगतान की आवश्यकता नहीं है। शर्मा जी का दावा है कि यह एक बड़ा सुरक्षा जोखिम है जो सभी को एक तरह का “ओपन एटीएम” दे रहा है।

यह भी पढ़े: UPI-आधारित एप्लीकेशनो की तुलना: Whatsapp Payment, Google Tez, Paytm

शर्मा जी ने कहा “फेसबुक खुले तौर पर भारतीय भुगतान प्रणाली को अपने लाभ के अनुसार बदल रहा है जो काफी गलत बात है। यूपीआई को इंडिया स्टैक के रूप में बनाया गया था, लेकिन अब एक अमेरिकन मोनोपोली कंपनी अपने हिसाब से ग्राहकों को लुभाने के लिए UPI प्रणाली को अपने हिसाब से बदल नहीं सकती है।”

उन्होंने आगे कहा, “आप अंडरराइटिंग के नाम पर ऐसे सुरक्षा जोखिम को कैसे दे सकते हैं जो बैंकों ने आपको दिया है? व्हाट्सएप का इस्तेमाल भारतीय उपभोक्ताओं द्वारा किया जाता है, जो इस देश में किसी एप्लीकेशन से कहीं अधिक वैल्यू रखते है। ”

अगर आप व्हाट्सएप का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो आपका पैसा अभी भी आपके यूपीआई पिन से सुरक्षित है, लेकिन शर्मा जी के अनुसार, व्हाट्सप्प ने सिर्फ बेहतर इंटरफ़ेस के अनुभव के लिए उपयोगकर्ता की सुरक्षा से समझौता किया है। ”

ऐसा नहीं है, शर्मा ने ट्विटर पर भी एक खुलेआम ट्वीट करके एक ट्वीट-वॉर शुरू किया।

 

हालांकि, यह मुद्दा गंभीर नहीं हो सकता है जितना शर्मा जी बताते हैं।

व्हाट्सएप पेमेंट के बारे में एक इंडस्ट्री एग्जीक्यूटिव ने शर्मा के दावों को खारिज कर दिया है। “एनपीसीआई ने यूपीआई एप्लिकेशन को लॉगिन-सेशन के लिए सलाह दी है, लेकिन यह अनिवार्य नहीं है। ओला और उबेर जैसी यूपीआई की सुविधा का उपयोग करने वाले अन्य एप्लिकेशन में भी लॉगिन-सेशन नहीं हैं। ”

 

ग्लोबल पेमेंट्स कंपनी पेU के भारत प्रमुख अमरीश राव ने कहा, “व्हाट्सएप ने एक अच्छा भुगतान ऐप पेश किया है और अन्य कम्पनियाँ सिर्फ डर फैला रही है।” “ये सिर्फ एक चाल हैं व्हाट्सएप, यूपीआई के लिए सामान्य प्रक्रिया का अनुसरण कर रहा है। फैलाई जा रही अफवाहें डिजिटल इंडिया की मदद नहीं कर रही हैं। ”

विजय शेखर शर्मा के पास एक बिंदु हो सकता है, लेकिन ऐसा रिएक्शन निश्चित रूप से  व्हाट्सप्प पेमेंट से असुरक्षा महसूस करता है। आखिरकार, व्हाट्सएप भारत में 200 मिलियन से अधिक एक्टिव यूजर के साथ सबसे बड़ा मेसेजिंग ऐप है। और एक काफी बड़ी डिजिटल पेमेंट पलटफोर्म के CEO को पब्लिक प्लेटफार्म पर ऐसे रिएक्शन नहीं देने चाहिए।